Breaking News

फिर वापिस लौट कश्मीरी पंडित, सरकार ने चलाया कश्मीरी पंडित को जमीन वापिस देने का अभियान

दोस्तों देशभर में मोदी सरकार ने ऐसे कई बड़े कदम उठाये है जिनसे सीधा फायदा जनता को हुआ है. फिर चाहे वह कश्मीर में धारा 370 हटाना हो, GST लागू करना या फिर तीन तलाक कानून को रोकना हो. इसके आलावा भी सरकार रोजाना कोई न कोई बड़ा फैसला लेते आ रही है.

हाल ही में कश्मीरी पंडितो के लिए एक अभियान चलाया गया है. जिसमे उन्हें उनकी जमीन वापिस दी जा रही है. ये उन सभी कश्मीरी पंडितो के लिए अछी खबर है जोकि कश्मीर छोडकर भाग गये थे. सालो पहले कश्मीर से पंडितो को भगा दिया गया था उनपर होने वाले अत्याचारों के कारण उन्हें आसपास के इलाकों में भागना पड़ा था.

लोग अपना घर व् जमीन सबकुछ छोडकर अपनी जान बचाने के लिए भाग रहे थे. लेकिन अब उनके लिए एक बार फिर से शांति भरे दिन लौट आये है. आज कश्मीर की राजनीति के साथ साथ कश्मीरी लोगो का बर्ताव भी काफी सही हो गया है. क्योंकि अब कश्मीर में कानून का राज है और 20 दिन में 40 जमीनों को खाली कराया गया है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि भारत सरकार ने कश्मीरी पंडितो को वापिस उनके घर भेजने के लिए एक अभियान चलाया था जोकि अब सफल होने लगा है. काफी सारे कश्मीरी पंडित जो कभी वापिस नही जाना चाहते थे वे अब एक बार फिर से कश्मीर लौटे है.

कश्मीरी पंडितो की जमीन और घर दिए गये वापिस 

कश्मीर में जो लोग कश्मीरी पडितो के घरो पर कब्जा किये थे उनसे घर खाली करवाए गये और पंडितो की जमीने भी वापिस ली गयी. 20 दिनों में 40 से अधिक जमीनों को खाली करवाया गया. इसके साथ ही बाकी घरों व् जमीनों को भी खाली करने के आदेश सरकार ने दे दिए है. अब कश्मीर में बदलाव देखने को मिल रहा है. धीरे धीरे कश्मीरी पंडित अपने घर वापिस लौटने लगे है और जो रह गये है वे भी कुछ समय में वापिस कश्मीर आ जायेंगे.

जम्मू कश्मीर की राजधानी श्रीनगर में 20 दिनों में 660 लोगो ने ऑनलाइन आवदेन कर बताया क उनके घरो में लोग सालो से रहे रहे है. उन्होंने ये भी कहा वे अपने घर वापिस लौटना चाहते है लेकिन वहां का माहौल सही नही है. जिसके बाद सरकार ने तुरंत कदम उठाते हुए श्रीनगर जिले में समाधान करते हुए दस्तावेज़ भी बनवा डाले है. अब एक बार फिर से कश्मीरी पंडित बिना डर के अपने घर वापिस लोटने की सोच रहे है. जबकि कुछ लोग कश्मीर लौट चुके है.

About Rani Thakur

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *