Breaking News

तारक मेहता ने खोया अपना सितारा, अंतिम यात्रा में नट्टू काका की बेटी हुई बेकाबू झलके लोगो केआंसू

दोस्तों बीते दिनों टीवी के सबसे पसंदीदा शो का एक सितारा दुनिया को अलविदा कह गया. तारक मेहता का उल्टा चश्मा में नट्टू काका किरदार निभाने वाले एक्टर घनश्याm नायक की बीते दिनों मौत हो गयी है. उनके जाने से परिवार टूट गया है तो वहीँ नट्टू काका के अंतिम यात्रा के दौरान बेटी खुद को रोक नही पाई और वह जोर जोर से रोने लगी.

बेटी को इस तरह रोता देखकर वहां मौजूद सभी लोगो की आँखे नम हो गयी. शो में बग्गा का किरदार निभाने वाले एक्टर तन्मय नट्टू काका की बेटी को चुप करवाते दिखाई दिए. घनश्याम की उम्र 77 साल हो गयी थी और वे सालो से शो में काम कर रहे थे. जेठ लाल के साथ उनकी बातचीत को लोगो ने खूब पसंद किया था.

उन्हें लबे समय से कैंसर की बीमारी थी इसके बावजूद वे लोगो को हंसाने में लगे रहे. नट्टू काका की अंतिम यात्रा में तन्मय ने उनकी बेटी को सम्भाला. आँखों में आंसू लिए बेटी ने पिता को अंतिम विदाई दी है. वे इस दौरान खुद को सम्भाल नही पा रही थी और उनकी आँखों से लगातार आंसू पानी की तरह बहने लगे थे.

सोशल मिडिया पर कुछ तस्वीरे वायरल हुई है जिसमे घनश्याम को आखिरी विदाई देती उनकी बेटी रोते हुए दिखाई दी है. ये सभी तस्वीरे लोगो को भावुक कर देने वाली है. इन्हें देखकर लोग काफी ज्यादा भावुक हो गये है. घनश्याम के अंतिम समय में शो के मुख्य अभिनेता दिलीप जोशी ओ प्रोड्यूसर भी शामिल हुए. सभी को नट्टू काका के जाने का दुःख था और उनकी आँखे नम थी. ये उनके लिए एक मुश्किल घड़ी थी.

जहाँ एक तरफ घनश्याम की बेटी पिता की मौत से पूरी तरह टूट गयी थी वहीँ उनके भाई ने बताया – पापा लम्बे समय से कैंसर की बीमारी से पीड़ित थे. पिछले साल उनके गले का ऑपरेशन हुआ था जिसमे उनके गले से 8 गांठे बाहर निकाली गयी थी.

अभी कुछ दिनों से वे काफी दर्द में थे और उन्हें खाना खाना तो दूर पानी पीने में भी तकलीफ हो रही थी. इतने दर्द को सहने के बाद आखिर कार घनश्याम जी ने जिन्दगी से हार मान ली और वे दुनिया छोड़ गये. उनकी मौत से शो में बबिता जी का किरदार करने वाली एक्ट्रेस मुनमुन दत्ता काफी दुखी हुई है.

उन्होंने सोशल मिडिया पर घनश्याम के साथ अपनी आखिरी तस्वीर शेयर करते हुए एक पोस्ट लिखा है. जिसमे उन्होंने लिखा – पहली तस्वीर तब की है जब मैं आखिरी बार उनसे मिली थी. मुश्किल घड़ी में जुझारूपन और होंसला बढाने वाले उनके अल्फाज मुझे हमेशा याद आते थे. वे सेट पर सभी के लिए हमेशा अच्छा बोलते थे उनके लिए शो का सेट अपना दूसरा घर बन गया था.

वहीँ घनश्याम की बेटी के आंसुओ ने हर किसी को रुला दिया. बेटी के लिए सबसे मुश्किल समय होता है जब वह अपने पिता को आँखों के सामने जाता देखती है. इस मुश्किल घड़ी में लोगो ने उनको होंसला रखने की बात कही है और नट्टू काका को श्रदांजली दी है.

About Rani Thakur

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *