Breaking News

न कार न घोडा बग्घी बल्कि एल्युमिनियम के पतीले में बैठकर दुल्हा पहुंचा ससुराल, दुल्हन की विदाई ने जीता दिल

दोस्तों बरसात के मौसम में लोगो के सारे काम रुक जाते है ऐसे में घर से बाहर निकलना मुश्किल हो जाता है लेकिन इस बीच किसी की शादी हो तो फिर उसकी क्या हालत होगी.केरल में लगातार 3 दिन बारिश के चलते आकाश और ऐश्वर्या की शादी रुकने वाली थी.

लेकिन दोनों ने शादी रोकने की बजाय उसे अनोखे तरीके से करने का फैसला लिया जिसे देखकर लोगो ने उनके काम की तारीफ़ की है. सोशल मीडिया पर दोनों को एल्युमिनियम के पतीले में बैठे दिखाया गया है.

जहाँ लोग शादी में घोडा, गाडी में बैठकर जाते है वहीँ ये नया जोड़ा पतीले में बैठकर शादी के मंडप तक पहुंचा है. घटना केरल की है जहाँ कुछ दिनों से लगातार बारिश के चलते सडके पानी से भर गयी थी . पानी में गाडी घोड़ा ले जाना किसी खतरे से कम नही था तो परिवार वालो ने उन्हें पूरी सुरक्षा देने के लिए स्थानीय भाषा में चंबू कहे जाने वाले बड़े आकार वाले पतीले में बैठाकर पानी [पर यात्रा करवाते हुए समारोह तक ले गये.

आकाश और ऐश्वर्या की जिस दिन शादी तय हुई थी उससे एक दिन पहने ही बारिश होना शुरू हो गयी थी. पूरी सडक पानी से भर गयी थी और इस बीच दोनों के परिवार वालो ने शादी टालने की बजाय उन्हें पतीले में बैठाकर मंडप तक ले जाना सही समझा. उनका एक विडियो सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है जिसे देखने के बाद लोग इस अनोखे तरीके से हुई शादी की जमकर तारीफ करते दिखाई दिए है.

केरल के काफी हिस्सों में पानी भरा हुआ था जिसकी वजह से उनकी शादी में बहुत कम लोग ही शामिल हो पाए थे. आकाश ने बताया कि कोविड के चलते शादी में लोगो की संख्या पहले ही कम कर दी गयी थी और वहीँ बारिश के चलते भी अन्य लोग नही आ पाए. लेकिन वे अपनी शादी से बहुत खुश है. भले ही उनकी शादी में परिवार के कुछ ही लोग शामिल हुए थे लेकिन पूरी दुनिया से लोगो ने उन्हें शादी की शुभकामनाएं दी है.

सोशल मीडिया पर एक अनोखे तरीके से हुई शादी ने हर किसी का दिल जीत लिया है. इन्होने बारिश के चलते शादी को टालने की बजाय उसे पतीले में बैठकर करना सही समझा. ये दुनिया की पहली शादी है जिसमे दूल्हा और दुल्हन दोनों कार में बैठकर नही बल्कि बड़े से पतीले में बैठकर मंडप तक पहुंचे है.

About Rani Thakur

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *