Breaking News

70 साल का विशवास एक पल में तोडा, इजरायल ने अमेरिका के साथ अब भारत को भी खतरे में डाला

इजराइल दुनिया का एकमात्रऐसा देश है जिसने मुस्लिम देशो के अंदर डर बनाया हुआ है. पहले इजारायल ने अपनीसैन्य ताकत के दम पर मुस्लिम देशो में तहलका मचाया हुआ था और अब राजनायिक ताकत के दम पर. मुस्लिम देश इजरायल को लेकर 2 खेमो में बंट चुके है जिसमे से कुछ देशो ने इजरायल को मान्यता देकर उसके साथ राजनायिक सम्बन्धो की शुरुआत कर दी है और दूसरी तरफ कुछ ऐसे देश है

जो अब भी इजरायल से अपनी कट्टर दुश्मनी निभाने में आगे है. देखा जाते तो इजरायल देखने में इतना छोटा है कि भारत के हरियाणा राज्य के अंदर इजरायल जैसे 2 देश फिट हो सकते है लेकिन इसकी शक्ति इतनी ज्यादा है कि अमेरिका और रूस भी उसके आगे कम है. चीन भी इजरायल को अनदेखा नही करता है क्योंकि इजरायल आज जिस मुकाम पर खड़ा है

उसके पीछे अमेरिका का सबसे बड़ा समर्थन रहा है. अमेरिका एक ऐसा देश है जिसने हर मोड़ पर इजरायल का साथ दिया है और इसी वजह से इजरायल हमेशा से चीन और रूस से दुरी बनाये रखता है. लेकिन इस बीच जो हैरान करने वाली खबर सामने आई है

उसने सबके होश उड़ा दिए है. क्योंकि यहाँ सिर्फ अमेरिका के साथ दगाबाजी नही हुई है बल्कि जो वाईडन इजरायल में किया है उसका सबसे बड़ा नुकसान अमेरिका के साथ साथ भारत को भी उठाना पड़ेगा. अमेरिका जोकि 7 समुद्र पार है लेकिन इजरायल इस समय चीन की सैन्य ताकत बढाने का काम कर रहा है

और चीन हमारा पड़ोसी देश है और आज के में भारत का सबसे बड़ा दुश्मन भी है. इजरायल ने चीन की सेना शक्ति को और ज्यादा बढाने का काम किया है. इन्टरनेट पर ऐसी कई खबरे मोजूद है जिनके मुताबिक इजरायल की कई कम्पनियों ने चीन को अपनी घातक क्रूस मिसाइल बेचने का काम शुरू कर दिया है.

मिडिया की जानकारी के अनुसार इजरायल की 3 मेजर डिफेंस कम्पनी और 10 व्यक्तिगत कम्पनी चाइना गैर कानूनी तरीके से क्रूस मिसाइल बेचने के दोषी पाए गये है. इनके खिलाफ इजरायल में कार्यवाही शुरू हो चुकी है .

इजरायल के स्टेट अटोर्नी ऑफिस ने इस बात की जानकारी देते हुए कहा है कि चीन के हाथो में इजरायल की क्रूस मिसाइल की टेक्नोलॉजी लग गयी है. चीन ने क्रूस मिसाइल मिलने के बाद इजरायल की कम्पनियों को पेमेंट भी कर दी है.

सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात ये है कि चीन को बेचीं गयी क्रूस मिसाइल की टेस्टिंग इजरायल में पहले ही की जा चुकी है. हालंकि कुछ लोगो को इस बात पर विशवास नही हो रहा कि इजरायल के अंदर कई सारे क्रूस मिसाइल की टेस्टिंग की जाती है और इजरायल सरकार और सिक्योरिटी को इस बात की खबर तक नही है.

कहा जा रहा है कि चीन ने गैर क़ानूनी तरीके से जो मिसाइल इजरायल से ली है उनमे से एक मिसाइल फायर नही की गयी है. पिछले कुछ सालो से चीन का मिसाइल प्रोग्राम लगातार बढ़ता ही जा रहा है और चीन भी ऐसी मिसाइल बनाने की रेस में अमेरिका और रूस को टक्कर देने लगा है

जो मिसाइल पहले इन देशो के पास ही थी. ऐसे में ये कहना गलत नही होगा कि चीन इजरायल जैसे देशो से मिसाइल टेक्नोलॉजी चोरी करके अपने मिसाइल प्रोग्राम को आगे बढाने की कोशिश में लगा हुआ है.

About NR Thakur

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *